कांग्रेस में आज भी आपातकाल की मानसिकता विद्यमान है,शाम सुन्दर अग्रवाल


भाजपा नेता ने शाम सुन्दर अग्रवाल ने आपातकाल को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना
कपूरथला()भाजपा 25 जून,शनिवार के दिन को भारतीय लोकतंत्र के काले दिवस के रूप में मनाएगी।भाजपा प्रदेश कार्यकारणी के सदस्य शाम सुन्दर अग्रवाल ने शुक्रवार को अपने मुख्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि 25 जून 1975 को इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने पूरे देश में आपातकाल लागू कर लोकतंत्र की हत्या कर दी गई थी।प्रेस को सेंसर कर दिया गया था,

विपक्ष के सभी बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर जेल में बंद कर दिया गया था।इस दिवस को पार्टी काला दिवस के रूप में मनाएगी।भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि कांग्रेस में आज भी आपातकाल की मानसिकता विद्यमान है और एक परिवार के हित दलीय और राष्ट्रीय हितों पर हावी हो गये।अग्रवाल ने कहा कि आपातकाल के दौरान लोकतंत्र के लिए लड़ने वाले लोगो को देश कभी नहीं भूल पाएगा।उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि एक परिवार के हित दलीय व राष्ट्रीय हितों पर हावी हो गए हैं।उन्होंने सवाल किया कि आपातकाल की मानसिकता क्यों आज भी कांग्रेस में विद्यमान है।

अग्रवाल ने कहा,47 साल पहले आज ही के दिन एक परिवार की सत्ता की लालसा ने देश पर आपातकाल थोपा।रातों-रात देश को कैदखाने में तब्दील कर दिया गया।प्रेस,अदालतें और यहां तक कि बोलने की आजादी भी कुचल दी गई।गरीबों और दबे-कुचलों पर अत्याचार किये गये।देश में 25 जून 1975 से 21 मार्च 1977 के बीच आपातकाल लागू रहा।तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगाया था।आपातकाल के दौरान नागरिक अधिकारों में कटौती कर दी गयी थी।विपक्ष के नेताओं और यहां तक कि इंदिरा गांधी के शासन की शैली का विरोध करने वाले कांग्रेस के कुछ नेताओं को भी जेल भेज दिया गया था।अग्रवाल ने कहा कि लाखों लोगों के प्रयासों की बदौलत आपातकाल हटा और लोकतंत्र बहाल हुआ।लेकिन यह लोकतंत्र आज भी कांग्रेस पार्टी से नदारद है।उन्होंने कहा,एक परिवार का हित दलीय और राष्ट्रीय हितों पर हावी हो गया।आज की कांग्रेस का भी यही हाल है।उन्होंने कहा जिन्होंने 47 वर्ष पूर्व लोकतंत्र की हत्या की,वे आज सरकार पर सवाल उठा रहे हैं।अग्रवाल ने कहा,मुझे आश्चर्य होता है कि जिन्होंने 47 साल पूर्व लोकतंत्र की हत्या की आज वे सरकार पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा,जिस पार्टी ने पूरे तंत्र को कुचल कर रख दिया,लोगों की आजादी छीन ली और हजारों लोगों,खासकर विपक्षी लोगों,को जेल भेज दिया,आज वे आजादी के नारे बुलंद कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि इस प्रकार की राजनीति को देश कभी स्वीकार नहीं करेगा।उन्होंने देश में आपातकाल के लिए कांग्रेस के निहायत अलोकतांत्रिक’’ रवैये को जिम्मेदार ठहराते हुए नयी पीढ़ी से अपील की कि वह लोकतंत्र के इस काले अध्याय से उचित सीख ले।अग्रवाल ने कहा,आज का दिन कांग्रेस के निहायत अलोकतांत्रिक रवैये के खिलाफ दी गई कुर्बानियों को याद करने का है।यह विरासत आज भी कांग्रेस में जारी है।


Article Categories:
पंजाब · राजनीति · लेटेस्ट
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.