इन 5 कारणों से महिलाओं में बढ़ता है लाइफस्टाइल डिसीज का खतरा – HerZindagi

आज के समय में लोगों का लाइफस्टाइल व खानपान जिस तरह का है, उसके कारण उन्हें कई तरह की बीमारियां लग जाती हैं। यूं तो स्वास्थ्य समस्याएं किसी को भी अपनी जद में ले सकती हैं, लेकिन महिलाओं को अपेक्षाकृत अधिक समस्याएं होने का खतरा अधिक होता है। ऐसी कई लाइफस्टाइल डिसीज हैं, जिससे अधिक महिलाएं प्रभावित होती है। इनमें हृदय रोग से लेकर स्ट्रोक, मधुमेह, मोटापा, मेटाबोलिक सिंड्रोम, आदि शामिल हैं। यह ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं हैं, जो आगे चलकर परेशानी को कई गुना बढ़ा सकते हैं।
हालांकि, इनमें से अधिकतर लाइफस्टाइल डिसीज की मुख्य वजह खुद महिला ही होती है। दरअसल, अधिकांश महिलाएं अपने स्वयं के स्वास्थ्य पर कुछ खास ध्यान नहीं देती हैं। यदि वे कामकाजी महिलाएं हैं तो घर और काम को संतुलित करने के चक्कर में उनकी सेहत प्रभावित होती है। इतना ही नहीं, वह कोई स्वास्थ्य समस्या होने पर उसे सीरियसली नहीं लेती हैं, जिससे समस्या और भी बढ़ जाती है। ऐसे कई कारण होते हैं, जो महिलाओं में इन लाइफस्टाइल डिसीज के रिस्क को और भी ज्यादा बढ़ाते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ कारणों के बारे में बता रहे हैं-
unhealthy eating habits
अधिकतर स्वास्थ्य समस्याओं के पीछे की मुख्य वजह व्यक्ति का खानपान होता है। अनहेल्दी ईटिंग पैटर्न, सही समय पर भोजन ना करना, जरूरत से ज्यादा डाइटिंग करना कुछ ऐसे कारण है, जिसके कारण महिलाओं के शरीर में सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। पोषक तत्वों की कमी होने से शरीर की कार्यप्रणाली सही ढंग से काम नहीं करती हैं और फिर महिला को कई तरह की लाइफस्टाइल डिसीज होने का खतरा बढ़ जाता है।
excess stress
बहुत अधिक तनाव, नींद की कमी और शारीरिक गतिविधि की कमी वजन बढ़ाने में योगदान करती है। तनाव और नींद की कमी हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाती है, जिससे शरीर में सूजन आ जाती है। कोर्टिसोल भूख और लालसा को बढ़ाता है, जिससे वजन बढ़ता है। इससे महिला को प्री-डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्मोन संबंधी समस्याएं और पीसीओएस भी हो सकता है।
इसे भी पढ़ें: महिलाएं इन समस्‍याओं को नजरअंदाज न करें, नेचुरल तरीके से करें इलाज
जब महिला की उम्र बढ़ने लगती हैं, तो उसे कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम होने का खतरा बहत अधिक बढ़ जाता है। 30 साल की उम्र के बाद उनके शरीर से कैल्शियम खोने लगता है और उनकी हड्डियां कमजोर हो जाती है। इसके अलावा, 35 साल की उम्र से ही महिलाओं को हृदय रोग और मधुमेह होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए, यह बेहद जरूरी होता है कि महिला अपनी उम्र के अनुसार नियमित हेल्थ चेकअप करवाएं और अपनी डाइट का विशेष रूप से ध्यान रखें। 
आज के समय में महिलाएं तनाव को दूर करने के लिए धूम्रपान का सहारा लेती हैं। लेकिन पुरुषों की तुलना में धूम्रपान करने वाली महिलाओं को दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है। इतना ही नहीं, ऐसी महिलाओं को हृदय रोग, कैंसर, टाइप 2 मधुमेह आदि भी हो सकता है।
इसे भी पढ़ें: यह संकेत बताते हैं कि आपको अब अधिक नींद लेने की है जरूरत
akipping exercise
यह एक कॉमन कारण है, जिसके कारण महिला को लाइफस्टाइल डिसीज होने का खतरा अधिक होता है। दरअसल, आज के समय में महिलाओं के पास टाइम की बेहद कमी होती है, जिसके कारण वह एक्सरसाइज या किसी तरह की फिजिकल एक्टिविटी में शामिल नहीं होती हैं। जिसके कारण उन्हें ना केवल अधिक वजन की समस्या का सामना करना पड़ता है। बल्कि मोटापे के चलते मधुमेह, हद्य रोग, ब्लड प्रेशर की समस्या व हार्मोनल इश्यूज भी हो जाते हैं।
तो अब आप भी इन गलतियों को दोहराने से बचें और खुद को कई तरह की बीमारियों से सुरक्षित रखें।
महिलाओं में घुटनों की स्ट्रेंथ को बढ़ाने में मददगार हैं ये योगासन
जानें मेंस्ट्रुअल कप के इस्तेमाल करने के फायदे
अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकीअपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  
Image Credit- freepik



बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें
आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।


Copyright © 2022 Her Zindagi
This Website Follows The DNPA’s Code Of Conduct
For Any Feedback Or Complaint, Email To compliant_gro@jagrannewmedia.com

source


Article Categories:
लाइफस्टाइल
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.