आयोजन: दूसरों की मदद करना ही सबसे बड़ा धर्म: फादर – Dainik Bhaskar

रोशनपुर पल्ली के फादर अमृत तिर्की के पुरोहिताई जीवन की 25वीं वर्षगांठ धूमधाम से मनाई गई। सर्वप्रथम पल्ली में फादर अमृत की अगुवाई में मिस्सा अनुष्ठान कराया गया। मौके पर फादर अमृत ने अपने संदेश में कहा कि पुरोहिताई जीवन के 25 वर्ष तक सेवा देना काफी अच्छा लगा। इन वर्षों में मैंने बहुत कुछ सीखा और प्रभु यीशु के बताए मार्ग पर चलकर लोगों की सेवा की। इस समय में हमसे किसी प्रकार की चूक हुई हो तो ईश्वर से मैं क्षमा मांगता हूं। मैं ईश्वर से 25 वर्ष के सेवा देने के लिए धन्यवाद देता हूं।
साथ ही कहा कि आगे भी पुरोहिताई जीवन बेहतर तरीके से चले, इसके लिए सभी का सहयोग की आवश्यकता है। पूर्णिया के विकर जनरल फादर फ्रासिंस तिर्की ने कहा कि प्रभु यीशु हमेशा से अपना जीवन दूसरों के सेवा में व्यतीत किये। हमें ईश्वर के बताए मार्गो पर चलकर दूसरों की सेवा करनी है।
उन्होंने अपने संदेश में कहा कि पुरोहिताई जीवन कठिन होता है, मगर यदि ईमानदारी पूर्वक पुरोहिताई जीवन चले तो निश्चित रूप से वह सरल होगा। पुरोहिताई जीवन के दौरान कई विपत्ति आते है, उसे शालीनतापूर्वक निराकरण करने की आवश्यकता है। फादर अमृत सरल स्वभाव के है, वे अपने परिवार को छोड़ सारा जीवन दूसरों पर न्योछावर कर दिया। उन्होंने लोगों से अपील की कि आप लोग भी दीन-दु:खियों की मदद करें। दूसरों की मदद करना ही सबसे बड़ा धर्म है।
Copyright © 2022-23 DB Corp ltd., All Rights Reserved
This website follows the DNPA Code of Ethics.

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.