Holi Katha: होली के पहले होलिका दहन की हो रही है जोरदार तैयारी, जानें इससे जुड़ी पौराणिक कथा – ABP न्यूज़

By: करनपुरी | Updated : 14 Mar 2022 09:46 AM (IST)

होली पूजा
Jodhpur News: होली हिन्दुओं का सामाजिक त्यौहार होते हुए भी राष्ट्रीय त्यौहार बन गया है. इसमें न तो कोई वर्ण भेद है और नहीं हरकोई जाति भेद. इसको सभी वर्ग के लोग बड़े उत्साह से मनाते है. पंडित रमेश द्विवेदी भोजराज ने बताया कि यह सम्पूर्ण अनिष्टों को खत्म कर देता है. आपसी वैमनस्य को भूलकर लोग आपस में गले मिलते हैं. गुलाल और चन्दन लगाते हैं. असल में यह नवान्नेष्टि का यज्ञ है. इसे विधिवत् मनाने से वैकुण्ठ की प्राप्ति होती है.
पंडित रमेश द्विवेदी भोजराज बताते हैं कि  भविष्य पुराण के अनुसार महर्षि नारद ने धर्मराज युधिष्ठिर को जो कथा सुनाई थी, वह इस प्रकार है 
हे राजन्! फाल्गुन मास की पूर्णिमा को सब मानवों के लिए अभयदान होना चाहिए. जिससे सारी प्रजा निडर होकर हंसे और खेले-कूदे. डंडे और लाठिया लेकर बालक शूरों के समान गांव के बाहर जाकर होलिका के लिए लकड़ियों और कंडों का संचय करें. विधिवत् हवन करें. अट्टाहास, किलकिलाहट और मंत्रोंच्चारण से पापात्मा राक्षसी नष्ट हो जाती है.
इस व्रत की व्याख्या से दैत्यराज हिरण्यकश्यप की अनुजा होलिका जिसे अग्नि में न जलने का वरदान प्राप्त था, धर्मनिष्ठ भतीजे प्रहलाद को लेकर अग्नि में बैठ गई थी. अग्नि ने बालक की रक्षा की थी और वह राक्षसी जलकर भस्म हो गई थी. तब से हर वर्ष होलिका के नाम से यह जलायी जाती है. 

googletag.cmd.push(function() { googletag.display(“div-gpt-ad-1617272828641-0”); });

हे नराधिप! पुराणान्तर में ऐसी भी व्याख्या है कि ढुंढला नामक राक्षसी ने शिव पार्वती का तप करके यह वरदान पा लिया था कि जिस किसी बालक को यह पाले उसे अपना आहार बनाती जाए. परन्तु शिवजी ने वरदान देने से पूर्व यह युक्ति रखी थी कि जो बालक वीभत्स आचरण करते हुए राक्षसी वृत्ती में निर्लज्जता पूर्वक फिरते हुए पाये जाएंगे.
 उन्हें वह अपना आहार नहीं बना सकेगी. इसलिए इस त्यौहार पर उस ढुढला राक्षसी से बचने के लिए बालक अनेक प्रकार के वीभत्स और निर्लज्ज स्वांग रचते है तथा अंट-संट बोलते है. हे धर्मराज! इस हवन से सम्पूर्ण अनिष्ट मिट जाते हैं. यही होलिकोत्सव कहलाता है. इस होलिका दहन की तीन परिक्रमा करके फिर ह्यास-परिह्यास करना चाहिए. 
होलिका दहन पर्व विधि
यह राष्ट्रीय पर्व फाल्गुंन मास की शुक्ला पूण्रिमा को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. होलिका दहन का स्थान शुद्ध होना चाहिए. वहाँ पर घास-फूंस, काष्ठ, बुआल, उपले आदि को एकत्रित करके रखना चाहिए और पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए. इसके बाद होलिका पूजन का संकल्प करके पूर्णिमा तिथि होने पर ही किसी वृत्तिका के घर से बालकों द्वारा अग्नि मंगवा कर होलिका दहन करना चाहिए.
यह कार्य भद्रा रहित समय में होना चाहिए वरना काफी अनिष्ट हो सकता है. भद्रा तिथि में होलिका दहन से राष्ट्र में विद्रोह और नगर में अशान्ति हो जाती है. इसलिए प्रतिपदा, चतुर्दशी, भद्रा और दिन में होली जलाना सर्वथा त्याज्य है. इसके बाद गेहूं, चने और जौ की बालों की होलिका की पवित्र ज्वाला में भूनना चाहिए. घर के आंगन में गोबर का चैका लगा कर अन्नादि का स्थापन करना चाहिए. अगले दिन इसकी भस्म पर लगा पुण्य का भागी बनना चाहिए.  
पंडित रमेश द्विवेदी भोजराज बताते हैं कि इस फाल्गुन पूर्णिमा के दिन चतुर्दशी मनुओं में से एक मनु का जन्म दिवस भी है. इस कारण यह मन्वादि तिथि भी है. इसलिए उस उपलक्ष्य में भी इस पर्व की महत्ता है.
संवत् के आरम्भ और संवत्ागमन के लिए जो यज्ञ किया जाता है और उसके द्वारा अग्नि के अधिदेव-स्वरूप का जो पूजन होता है, उसे ही अनेक शास्त्रकारों ने होलिका का पूजन माना है. इसीकारण से कुछ लोग होलिका दहन को संवत् के आरम्भ में अग्नि स्वरूप परमात्मा का पूजन मानते है.
यह भी पढ़ें:
Rajasthan Corona Update: राजस्थान में रविवार को मिले 69 नए मामले, 10 करोड़ लोगों को लगाया गया टीका
CM Ashok Gehlot ने बताई बीजेपी के चुनाव जीतने की वजह, राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के सवाल पर कही यह बात
Sariska Tiger Reserve Fire: सरिस्का टाइगर रिजर्व के जंगलों में लगी आग लगभग काबू में, रविवार शाम को हुई थी घटना
Rajasthan Phone Tapping Case: फोन टैपिंग मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी को मिली ये राहत, पढ़ें पूरी खबर
Rajasthan: किरोड़ी सिंह बैंसला- जिनके एक इशारे पर रुक जाता था पूरा राजस्थान, जानिए सिपाही से कर्नल तक का सफर
Chaitra Navratri 2022: जानिए- चैत्र नवरात्रि में कैसे करें मां की अराधना, घट स्थापना का शुभ मुहुर्त और पूजन विधि
Rajasthan News: बख्शीस में मिले 200 रूपये बंटवारे के लिए युवक ने की चाचा की हत्या, आरोपी गिरफ्तार
LSG vs CSK: मैथ्यू हेडन ने की चेन्नई सुपर किंग्स की तारीफ, बताया क्यों टीम जीत सकती है IPL 2022 का खिताब
पिता के नाम आवंटित बंगला खाली करने पर आया चिराग पासवान का रिएक्शन, बोले इस बात पर है आपत्ति
Bihar Board 10th Result 2022: बिहार बोर्ड मैट्रिक का रिजल्ट जारी, टॉप फाइव में 8 विद्यार्थी शामिल, देखें टॉपर्स की लिस्ट
अमित शाह का बड़ा बयान- नागालैंड, असम और मणिपुर से AFSPA के तहत अशांत क्षेत्रों को कम करने का फैसला
द कपिल शर्मा शो में आखिरकार 4 साल बाद सपना को मिल गया उसका छावा मुकेश! खुशी से झूमी
यह वेबसाइट कुकीज़ या इसी तरह की तकनीकों का इस्तेमाल करती है, ताकि आपके ब्राउजिंग अनुभव को बेहतर बनाया जा सके और व्यक्तिगतर तौर पर इसकी सिफारिश करती है. हमारी वेबसाइट के लगातार इस्तेमाल के लिए आप हमारी प्राइवेसी पॉलिसी से सहमत हों.

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *