कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के अपने वादे पर ठोस कदम उठाये केंदर,ओमकार कालिया

कपूरथला(राजेश सेठी/हरप्रीत सिंह पूर्वा)शिव सेना बाल ठाकरे ने सोमवार को कश्मीरी पंडितों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर कटाक्ष किया।शिव सेना ने कहा केंद्र सरकार द्वारा किए गए वादे के विपरीत कश्मीरी पंडितों को वहां की अशांत परिस्थितियों के कारण कश्मीर छोड़ने के लिए मजबूर किया जा रहा है। केंद्र सरकार को कश्मीरी पंडितों की सुरक्षित और सम्मानजनक वापसी और पुनर्वास सुनिश्चित करना चाहिए।घाटी में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा को लेकर शिव सेना बाल ठाकरे के प्रदेश प्रवक्ता ओमकार कालिया ने भारत सरकार और भाजपा की कड़ी निंदा की।कालिया ने कहा कि अगर सरकार सच में कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास करना चाहती है तो नारेबाजी छोड़ अपने वादे को पूरा करने के लिए कोई ठोस कदम उठाना चाहिए।कालिया ने कहा कि सरकार के संसद से दावा करने के बाद भी घाटी में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा की स्थिति में कोई भी सुधार नहीं हुआ है।कश्मीर में मौजूदा सुरक्षा स्थिति को अल्पसंख्यकों के लिए तनावपूर्ण बताते हुए कालिया ने कहा कि भारत सरकार और गृह मंत्री ने खुद संसद के पटल से कहा था कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर में शांति लाने के रास्ते में एक बड़ी बाधा थी और इस लेख के निरस्त होने से जम्मू-कश्मीर में स्थिति पूरी तरह से सामान्य हो जाएगी लेकिन जम्मू कश्मीर की मौजूदा स्थिति को देखते हुए सरकार के दावे झूठे साबित होते नजर आ रहे हैं।उन्होंने कहा कि आए दिन घाटी में अल्पसंख्यक नागरिकों की हत्याएं हो रही है, आतंकवादी सुरक्षाबलों पर हमला कर रहे हैं जिससे यह स्पष्ट होता है कि सरकार के दावे और मौजूदा स्थिति बिल्कुल विपरीत है।वहीं अल्पसंख्यकों के घाटी छोड़ने पर कालिया ने कहा कि सरकार दावा कर रही है कि उनके कार्यकाल में कोई भी पलायन नहीं हुआ है लेकिन वास्तविकता कुछ और है।सरकार की निंदा करते हुए कालिया ने कहा कि भाजपा सरकार के शासन में स्थिति इस हद तक खराब हो गई है कि किसी कश्मीरी पंडित की उसकी दुकान में गोली मारकर हत्या कर दी जाती है तो कहीं एक मासूम महिला शिक्षक को दिन के उजाले में आतंकवादियों द्वारा स्कूल के अंदर मार दिया जाता है।कश्मीर के शोपियां में सेब के बाग में काम कर रहे कश्मीरी पंडितों पर गोलियां चला दी जाती हैं।यह सब मामले सरकार की विफलताओं को उजागर करने के लिए काफी है।शिव सेना बाल ठाकरे ने भारत सरकार से कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के अपने वादे पर ठोस कदम उठाने की अपील करने के साथ कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करने की मांग की।


Article Categories:
धर्म · पंजाब · राजनीति
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.