Shani Dev Katha: शनि देव कैसे बने कर्मफल दाता? पढ़ें यह पौराणिक कथा – News18 हिंदी

सपने में भरा हुआ कुआं देखने का मतलब क्या होता है?
Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्रि के 9 दिन भूलकर भी न करें ये काम
आज है पापमोचनी एकादशी, जानें ति​थि, मुहूर्त, मंत्र, पूजा विधि एवं महत्व
आज का पंचांग, 28 मार्च 2022: पापमोचनी एकादशी व्रत आज, जानें शुभ-अशुभ समय
Shani Dev Katha: धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शनि (Shani Dev) देव न्याय के देवता और कर्मफल दाता (Karmaphal Daata) हैं. जो जैसा कर्म करता है, उसे वे वैसा ही फल देते हैं. वे सबके साथ न्याय करते हैं, इसलिए न्याय के देवता हैं. लेकिन जब ये राहु के साथ युति करते हैं, तो दंडनायक की भूमिका में होते हैं. दुष्ट लोगों को उनके कर्मों के लिए दंड भी देते हैं. तभी तो राहु के प्रभाव में आकर उन्होंने अपने वाहन काकोल की मां को भस्म करने के लिए इंद्र देव को दंडित किया था. शनि देव प्रारंभ से ही ऐसे नहीं थे. अपने पिता सूर्य देव से बार बार अपमानित होने के कारण शनि देव कठोर हो गए. आखिर शनि देव कर्मफल दाता कैसे बनें? आइए जानते हैं इसके बारे में.
पौराणिक कथाओं के अनुसार, सूर्य देव जब अपनी पत्नी छाया के पास गए तो उनकी तेज से पत्नी ने आंखें बंद कर ली. कुछ समय बाद शनि देव का जन्म हुआ. माता छाया के आंखें बंद कर लेने के कारण वे श्यामवर्ण के हो गए. सूर्य देव उनके रंग को देखकर दुखी हो गए. उन्होंने अपनी पत्नी छाया से कहा कि शनि उनका पुत्र नहीं हो सकता है. इससे उनकी पत्नी बहुत दुखी हुईं और शनि देव यह देखकर क्रोधित हो गए.
यह भी पढ़ें: आज करें हनुमान जी से जुड़े ये 3 उपाय, शनि दोष से मिलेगी मुक्ति
माता छाया के प्रति पिता सूर्य देव के व्यवहार से शनि देव काफी दुखी और क्रोधित रहते ​थे. उन्होंने शिव उपासना का प्रण लिया. उन्होंने हजारों वर्षों तक भगवान शिव की तपस्या की, जिससे उनका शरीर काला पड़ गया. शनि देव की कठोर तपस्या से भगवान शिव प्रसन्न हुए और वरदान मांगने को कहा.
यह भी पढ़ें: ऐसे लोगों से नाराज रहते हैं शनि देव, भूलकर भी नहीं करें ये 8 काम
तब शनि देव ने कहा कि उनके पिता सूर्य देव ने हमेशा उनकी माता छाया का अपमान किया है. वह चाहते हैं कि सूर्य देव का अभिमान टूट जाए. तब भगवान शिव ने कहा कि तुम सभी ग्रहों में श्रेष्ठ होगे. आज से तुम सभी लोगों को उनके कर्मों के आधार पर फल दोगे. तुम सबके साथ न्याय करोगे और न्याय के देवता होगे. भगवान शिव की कृपा से ही शनि देव कर्मफल दाता बनें और सभी ग्रहों में श्रेष्ठ हुए.
(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |
Tags: Dharma Aastha, Shanidev

KGF 2 के ट्रेलर ने किया धमाल, सुपरहिट Trailer होने के बावजूद फ्लॉप रही थीं ये मशहूर फिल्में
PICS: सलमान खान ने दी IIFA 2022 को लेकर अपडेट, शो को लेकर रोमांचित दिखे वरुण-अनन्या
जुबिन नौटियाल एक क्लब में निकिता दत्ता के साथ हुए स्पॉट, लेडी लव के लिए गाया बेहद रोमांटिक गाना
मेष
वृषभ
मिथुन
कर्क
सिंह
कन्या
तुला
वृश्चिक
धनु
मकर
कुंभ
मीन

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *