महिलाओं के नेतृत्व वाला विकास शुरू से ही मोदी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है:रिंपी शर्मा

कपूरथला(बॉबी शर्मा)भाजपा जिला सचिव रिंपी शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सरकार ने पिछले 8 वर्षों में महिला सशक्तिकरण में कोई कसर नहीं छोड़ी हैउन्होंने यह भी कहा कि महिलाओं के नेतृत्व वाले विकास के कारण हमारी करोड़ों माताओं,बहनों और बेटियों का जीवन आसान हो गया है और वे देश की प्रगति में बहुत योगदान दे रही हैं।उन्होंने कहा कि बीते 8 वर्षों में नारी शक्ति के सशक्तिकरण में सरकार ने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है।महिलाओं के नेतृत्व में विकास को शुरू से ही प्राथमिकता दी गई है।इसी का परिणाम है कि हमारी करोड़ों माताओं,बहनों और बेटियों का जीवन आसान हुआ है और वे देश के उत्थान में बढ़-चढ़कर योगदान दे रही हैं।रिंपी शर्मा ने बताया कि केंद्र सरकार की कई योजनाएं केवल महिलाओं के लिए हैं।मोदी सरकार ने महिला सशक्तिकरण की दिशा में कई कदम उठाए हैं।जिसका लाभ बड़े पैमाने पर देश की महिलाओं को मिल रहा है।सरकार का उद्देश्य है कि महिलाएं भी पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ें।वैसे भी हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ती जा रही है।रिंपी शर्मा ने मोदी सरकार की महिलाओं को लेकर कौन-कौन सी कल्याणकारी योजनाएं हैं के बारे में बताते हुए कहा कि महिलाओं के लिए मोदी सरकार की सबसे सफल उज्ज्वला योजना है।1 मई 2016 को उत्तर प्रदेश के बलिया से इस योजना की शुरुआत हुई थी।इस योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर गृहणियों को रसोई गैस सिलेंडर उपलब्ध कराई जाती है।उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत केंद्र सरकार तेल कंपनियों को हर एक कनेक्शन पर 1600 रुपये की सब्सिडी देती है।यह सब्सिडी सिलेंडर को सिक्योरिटी और फिटिंग शुल्क के लिए होती है।जिन परिवारों के नाम बीपीएल कार्ड हैं,वो इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।इस योजना का उदेश्य महिलाओं को लकड़ी या कोयले के धुएं से मुक्त कराना है।उन्होंने बताया कि दूसरी सब से बड़ी योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत में की थी।इस योजना का उद्देश्य बालिका लिंग अनुपात में गिरावट रोकना एवं महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना है।यह योजना भारत के अलग अलग क्षेत्रों में चलाई जा रही है।यह योजना उन महिलाओं की मदद करती है जो घरेलू हिंसा या किसी भी प्रकार की हिंसा का शिकार होती हैं।अगर कोई महिला ऐसी किसी भी प्रकार की हिंसा का शिकार होती है तो उसे पुलिस, कानूनी,चिकित्सा जैसी सेवाएं दी जाती है।पीड़ित महिला टोल फ्री नंबर 181 पर कॉल करके मदद ले सकती हैं।उन्होंने बताया कि जो महिलाएं सिलाई-कढ़ाई में रुचि रखती हैं,उनके लिए केंद्र सरकार की ओर से फ्री सिलाई मशीन योजना चलाई जाती है।इस योजना का लाभ देश के ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों की आर्थिक रूप से कमजोर महिलाएं उठा सकती हैं।भारत सरकार की तरफ से हर राज्य में 50,000 से अधिक महिलाओं को निशुल्क सिलाई मशीन प्रदान की जाएगी।इस योजना के अंतर्गत केवल 20 से 40 वर्ष की आयु की महिलाएं आवेदन कर सकती हैं।रिंपी शर्मा ने बताया कि यह योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से साल 2017 को लॉन्च की गई थी।यह योजना महिलाओं के संरक्षण और सशक्तिकरण के लिए तैयार की गई है।इस योजना के तहत गांव-गांव की महिलाओं को सामाजिक भागीदारी के माध्यम से सशक्त बनाने और उनकी क्षमता का अनुभव कराने का काम किया जाता है।यह योजना राष्ट्रीय,राज्य और जिला स्तर पर काम करती है।


Article Categories:
पंजाब · राजनीति · लेटेस्ट
Likes:
0

Related Posts


    Popular Posts

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *