Sankashti Chaturthi 2022 Katha: संकष्टी चतुर्थी पर पढ़ें यह व्रत कथा, संकटों का हरण करेंगे विघ्नहर्ता गणेश – News18 हिंदी

Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्रि के 9 दिन भूलकर भी न करें ये काम
आज है पापमोचनी एकादशी, जानें ति​थि, मुहूर्त, मंत्र, पूजा विधि एवं महत्व
आज का पंचांग, 28 मार्च 2022: पापमोचनी एकादशी व्रत आज, जानें शुभ-अशुभ समय
Somvar Ke Upay: पैसों से जुड़ी समस्या का होगा समाधान, सोमवार को करें ये उपाय
Sankashti Chaturthi 2022 Katha: फाल्गुन माह की संकष्टी चतुर्थी 20 फरवरी दिन रविवार को है, य​ह द्विज​प्रिय संकष्टी चतुर्थी (Dwijapriya Sankashti Chaturthi) है. यह फरवरी की आखिरी चतुर्थी व्रत है. इस दिन विघ्नहर्ता श्री गणेश जी (Lord Ganesha) की विधिपूर्वक पूजा अर्चना करते हैं, उनकी आरती (Aarti) उतारते हैं और संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा का पाठ करते हैं. रात के समय में चंद्रमा की पूजा करते हैं और जल अर्पित करते हैं, उसके बाद पारण करके व्रत को पूरा करते हैं. संकष्टी चतुर्थी व्रत वाले दिन पूजा के समय संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा का पाठ जरूर करें. इससे व्रत पूर्ण होगा और पूरा फल प्राप्त होगा. जिस प्रकार भगवान गणेश जी ने देवताओं के संकटों को दूर किया था, उस प्रकार ही आपके संकटों का समाधान करेंगे. आइए जानते है संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा (Sankashti Chaturthi Vrat Katha) के बारे में.
संकष्टी चतुर्थी की चार व्रत कथाएं हैं. आज हम आपको चतुर्थी की प्रचलित कथा के बारे में बता रहे हैं. पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार सभी देवी-देवता संकटों में घिरे हुए थे, तो वे समाधान के लिए भगवान शिव के पास आए. तब उन्होंने भगवान गणेश और कार्तिकेय से संकट का समाधान करने के लिए कहा, तो दोनों भाइयों ने कहा कि वे इसका समाधान कर सकते हैं.
अब शंकर जी दुविधा में पड़ गए. उन्होंने कहा कि जो भी इस पृथ्वी का चक्कर लगाकर सबसे पहले आएगा, वह देवताओं के संकट के समाधान के लिए जाएगा. भगवान कार्तिकेय का वाहन मोर है, वे उस पर सवार होकर पृथ्वी की परिक्रमा करने निकल पड़े. गणेश जी की सवारी मूषक है, उसके लिए मोर की तुलना में पहले परिक्रमा कर पाना संभव नहीं था.
यह भी पढ़ें: संकष्टी चतुर्थी पर इस विधि से करें पूजा, गणेश कृपा से बढ़ेगा सुख-सौभाग्य
गणेश जी बहुत ही चतुर हैं. वे जानते थे कि चूहे पर सवार होकर वह पहले पृथ्वी की परिक्रमा नहीं कर सकते हैं. उन्होंने एक उपाय सोचा. वे अपने स्थान से उठे और दोनों हाथ जोड़कर भगवान शिव और माता पार्वती की 7 बार परिक्रमा की, फिर अपने आसन पर विराजमान हो गए.
उधर भगवान कार्तिकेय जब पृथ्वी की परिक्रमा करके आए, तो उन्होंने स्वयं को विजेता घोषित किया क्योंकि गणेश जी को वे वहां पर बैठे हुए देखे. तब महादेव ने गणेश जी से पूछा कि वे पृथ्वी परिक्रमा क्यों नहीं किए और उनकी परिक्रमा क्यों की?
इस पर गणेश जी ने कहा कि माता-पिता के चरणों में ही पूरा संसार है. इस वजह से उन्होंने अपने माता-पिता की परिक्रमा कर दी. गणेश जी के इस उत्तर से भगवान शिव और माता पार्वती बहु​त प्रसन्न हुए. उन्होंने गणेश जी को देवताओं के संकट दूर करने को भेजा.
यह भी पढ़ें: कब है संकष्टी चतुर्थी? जानें तिथि, पूजा मुहूर्त, चंद्रोदय समय एवं महत्व
साथ ही भगवान शिव ने गणेश जी को आशीर्वाद दिया कि जो भी चतुर्थी के दिन गणेश पूजन करेगा और चंद्रमा को जल अर्पित करेगा, उसके सभी दुख दूर हो जाएंगे. उसके संकटों का समाधान होगा और पाप का नाश होगा. उसके जीवन में सुख एवं समृद्धि आएगी.
(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |
Tags: Dharma Aastha, धर्म

मां-बेटी में फर्क करना नहीं आसान, एक नज़र में देखने वाले हो जाते हैं कनफ्यूज़ …
LFW 2022 के फिनाले में Ananya Panday ने पर्पल ड्रेस में स्टेज पर लगाई आग, इस डिजाइनर के लिए बनीं शो-स्टॉपर
Alert! 1 अप्रैल से बदल जाएंगे टैक्‍स से जुड़े ये चार नियम, आपकी जेब पर भी होगा सीधा असर
मेष
वृषभ
मिथुन
कर्क
सिंह
कन्या
तुला
वृश्चिक
धनु
मकर
कुंभ
मीन

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Related Posts


    Popular Posts

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *