सरकार से हिदू मंदिरों व धर्म स्थलों की पूर्ण सुरक्षा की रखी मांग: मंदिर कमेटी – दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

a
पटियाला के मंदिर में साजिश रचने वाले मुख्य आरोपी व भीड़ में शामिल शरारती तत्वों की पहचान करके उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए। जिन श्रद्धालुओं को अवैध रूप से पुलिस ने अपनी गिरफ्त में लिया है। उनको रिहा किया जाए। हिदुओं की सुरक्षा व उनके धर्म स्थलों की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाए जाएं।
संवाद सहयोगी, जुगियाल: बाबा मुक्तेश्वर मंदिर कमेटी डूंग की विशेष बैठक पावन स्थल बाबा मुक्तेश्वर मंदिर परिसर में कमेटी के अध्यक्ष ठाकुर भीम सिंह की अध्यक्षता में हुई। इसमें काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। बैठक की शुरुआत से पहले पांडवों की और से पहाड़ों का सीना चीर कर बनाई हुई पावन गुफाओं में स्थापित पावन शिवलिग की पूजा अर्चना की गई। पूरे विश्व में शांति व विकास के लिए अराधना की गई।
बैठक में कमेटी व श्रद्धालुओं ने पंजाब में बनी हुई आप की सरकार से मांग की है कि पटियाला में जिस प्रकार कुछेक शरारती तत्वों ने हिदुओं की भावनाओं को आहत किया है, उससे पूरे पंजाब में जहां हिदू समाज में रोष की लहर बढ़ी है। वहीं, आपसी भाईचारे को खराब करने का भी काम हुआ है। मंदिर कमेटी ने बताया कि चुनाव से पहले आप के प्रमुख अरविद केजरीवाल ने वादा किया था कि उनकी सरकार बनने पर मंदिरों व हिदू धर्मस्थलों को सरकारी कंट्रोल से मुक्त किया जाएगा। इसलिए अपने वादे का पूरा किया जाए। पटियाला के मंदिर में साजिश रचने वाले मुख्य आरोपी व भीड़ में शामिल शरारती तत्वों की पहचान करके उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए। जिन श्रद्धालुओं को अवैध रूप से पुलिस ने अपनी गिरफ्त में लिया है। उनको रिहा किया जाए। हिदुओं की सुरक्षा व उनके धर्म स्थलों की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाए जाएं। मंदिर कमेटी ने बताया कि शीघ्र ही उनकी कमेटी की ओर से एक ज्ञापन जिलाधीश को सरकार के नाम दिया जाएगा तथा विशेष कर हिदू धर्मस्थलों की पूर्ण सुरक्षा करने के लिए कड़ी व्यवस्था करने की मांग की जाएगी। इस अवसर पर कमेटी के प्रधान ठाकुर भीम सिंह, भाग सिंह, बाबा सूरज तिवारी, अंकू तनवाल, नरेश कुमार, पुरुषोत्तम सिंह, गोपाल शर्मा, शिव सिंह व अन्य उपस्थित रहे।

कोलकाता
लखनऊ
स्ट्रैटेजिक टाइम आउट
Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.