श्रेष्ठ विचार ही मनुष्य की सबसे बड़ी सम्पदा – Patrika News

सद्-विचार से मनुष्य अपने अविनाशी-स्वरूप को सहज ही उपलब्ध हो सकता है, जबकि जगत के अन्य पदार्थ नश्वर-मरणधर्मा हैं। अत: सद्-विचार संग्रहण-अनुशीलन करें। आध्यात्मिक विचार परिपक्व होते ही जीवन में आनन्द-माधुर्य, ऐश्वर्य-सौन्दर्य आदि दिव्यताएं स्वत: ही स्फुरित होने लगती हैं।

Published: April 25, 2022 06:31:13 pm
पत्रिका डेली न्यूज़लेटर
अपने इनबॉक्स में दिन की सबसे महत्वपूर्ण समाचार / पोस्ट प्राप्त करें
Patrika Desk

अगली खबर
शांति वार्ता जरूरी, लेकिन पिछले सबक रहें ध्यान
सबसे लोकप्रिय
शानदार खबरें
मल्टीमीडिया
00:00
00:00
4
5
3
सबसे लोकप्रिय
शानदार खबरें
मल्टीमीडिया
00:00
00:00
4
5
3
Newsletters
Follow Us
Download Partika Apps
Group Sites
Catch News
Catch News Hindi
Daily News 360
Top Categories
Trending Topics
Trending Stories
बड़ी खबरें

source


Article Categories:
बिज़नेस
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.