पाखंडवाद की दुकानों को तुरंत बंद करवाया जाए,रणजीत सिंह खोजेवाल


जबरन धर्म परिवर्तन करा रहे और अंधविश्वास फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए,भाजपा

कपूरथला(राजेश सेठी/हरप्रीत सिंह पूर्वा)पंजाब में ईसाई धर्म कि आड़ में लोगो के किए जा रहे जबरन धर्म परिवर्तन की कड़ी आलोचना करते हुए पूर्व चेयरमेन व भाजपा हल्का इंचर्ज रणजीत सिंह खोजेवाल ने कहा कि धर्म परिवर्तन किसी भी लिहाज से यह सही नहीं है यह परमात्मा व उसकी प्रकृति से अलग है।उन्होंने कहा कि देश में आज लोगों के बौद्धिक विकास की जरूरत है।लोगों को शुरूआत से ही अच्छी शिक्षा व संस्कार देने चाहिए।खोजेवाल ने कहा कि देश को कुछ लोग आज तोड़ने की साजिश कर रहे हैं।देश की गंगाजमुनी सरस्वती संस्कृति को तोड़ने की साजिश की जा रही है।प्रदेश सरकार से मेरी मांग है कि प्रदेश में माहौल ख़राब करने की कोशिशों में लगे लोगो पर तुरंत करवाई की जाए और पाखंडवाद की दुकानों को तुरंत बंद करवाया जाए।खोजेवाल ने कहा,ऐसे तरीके अपनाए जा रहे हैं,जिनकी अनुमति ईसाई धर्म भी नहीं देता।उन्होंने आरोप लगाया कि इसके लिए पिछड़े वर्ग के हिंदुओं औैर गरीब सिखों के परिवारों को निशाना बनाया जा रहा है।उन्होंने कहा कि पंजाब के सिखों और हिंदुओं को गुमराह किया जा रहा है और उन्होंने सरकार पर इसके खिलाफ कोई कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया।उन्होंने कहा कि पंजाब जैसे आधुनिक व वैज्ञानिक सोच वाले राज्य में भी अगर धर्म परिवर्तन से जुड़ी खबरें आती हैं तो यह वास्तव में बहुत ही गंभीर मामला है क्योंकि यह भारत का एक मात्र ऐसा राज्य है जहां के लोगों को सिख गुरुओं ने सबसे पहले धार्मिक पाखंडवाद को नकारने का पाठ पढ़ाया और कर्म (कार्य) की शक्ति में विश्वास रखने का उपदेश दिया।यहां के लोगों की उदात्त संस्कृति ने मानवीयता को मजहब की चारदीवारी के घेरे में कैद करने से इनकार किया जिसमें सिख गुरुओं का ही सबसे बड़ा योगदान रहा क्योंकि उन्होंने मानस की जात’को एक ही रूप मे पहचाना।गुरु नानक देव जी से लेकर गुरु गोविन्द सिंह महाराज तक सभी दस गुरुओं ने अन्याय के समक्ष कभी भी सिर न झुकाने को मानव धर्म बताया और सत्य व हक की राह में बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने के लिए प्रेरित किया।उन्होंने आगे कहा कि यह दुखद है कि कुछ लोग जानबूझकर पंजाब के माहौल को सांप्रदायिक रंग देकर बिगाड़ रहे हैं,जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।पंजाब सरकार को डडुआना क्षेत्र में निहंग सिखों के खिलाफ दर्ज मामले को तुरंत रद्द करना चाहिए,जिन्होंने धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए आवाज उठाई और सख्त कार्रवाई की।लोगों को जबरन धर्म परिवर्तन करा रहे लोगों के खिलाफ लुभाने,कपटपूर्ण तरीके से और अंधविश्वास फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।उन्होंने कहा कि बाबा मेजर सिंह सोढ़ी सहित 150 लोगों पर दर्ज किया गया मामला मानवता को शर्मसार करता है और साबित करता है कि पुलिस झूठ के खिलाफ कार्यवाही करने की बजाए सच्चे लोगों को दबाने में लगी है।


Article Categories:
पंजाब · राजनीति
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published.