क्या धर्म के आधार पर विद्यार्थियों का लिबास तय हो – Punjab Kesari

helo
हमें खेद हैं कि आप opt-out कर चुके हैं।
लेकिन, अगर आपने गलती से “Block” सिलेक्ट किया था या फिर भविष्य में आप नोटिफिकेशन पाना चाहते हैं तो नीचे दिए निर्देशों का पालन करें ।
FRI, APR 01, 2022
Pariksha Pe Charcha 2022: 1 अप्रैल को होगी…
गोवा: बिट्स पिलानी परिसर में 24 छात्रों के…
जम्मू: पुंछ जिले में बड़ा सड़क हादसा, वाहन…
अमित पाटकर बने गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के…

धर्म/कुंडली टीवी
Gadgets
Photos
Videos
संसार में जितने भी धर्म हैं, प्रत्येक का एक न एक प्रतीक अवश्य है जिसके आधार पर उसके मानने वालों की पहचान से लेकर उ

संसार में जितने भी धर्म हैं, प्रत्येक का एक न एक प्रतीक अवश्य है जिसके आधार पर उसके मानने वालों की पहचान से लेकर उनके जीवन जीने के तरीकों का ज्ञान होता है। 

धर्म और जीवन शैली
धार्मिक प्रतीकों के अतिरिक्त  सभी धर्मो में इस बात का वर्णन है कि जीवन जीने के लिए किन सिद्धांतों, मान्यताओं, परंपराओं, रीति-रिवाजों और अन्य धर्मों के साथ तालमेल बिठाए रखने के लिए किन नियमों का पालन करना चाहिए। इसका उद्देश्य यही है कि धार्मिक आधार पर कोई लड़ाई झगड़ा, तनाव, संघर्ष और वैमनस्य न हो और सभी शांति और सद्भाव से एक-दूसरे से प्रेमपूर्वक व्यवहार करते हुए मिलजुल कर रहें। 

यहां तक तो ठीक था लेकिन जब इस धार्मिक समझदारी में अपने धर्म को दूसरों से श्रेष्ठ समझने की मानसिकता बढऩे लगी तो उसमें एक तरह का जिद्दीपन शामिल होता गया। इसका खतरनाक नतीजा यह निकला कि धार्मिकता का स्थान धर्मांध कट्टरता ने ले लिया और लोग इसे ही वास्तविक धर्म समझने लगे। यहीं से असहिष्णुता यानी टालरैंस न होने की शुरूआत हुई और समाज विरोधी तत्वों को मौका मिल गया कि वे धार्मिक आधार पर समाज को बांट सकें। संयोग देखिए कि दुनिया के लगभग एक-तिहाई देशों के राष्ट्रीय ध्वजों में धार्मिक प्रतीकों का इस्तेमाल हुआ है और इनमें भारत का तिरंगा भी है। 

जहां एक ओर धर्म का आधार मन और शरीर की पवित्रता, विचारों की पावनता, अध्यात्म की ओर ले जाने वाली मानसिकता, दैवीय शक्तियों की अनुकंपा है, वहां दूसरी आेर जीवन जीने की अपनी विशिष्ट शैली भी है। जिंदगी और मौत के बीच का सफर किस तरह से तय किया जाए, यह प्रत्येक धर्म में अलग-अलग भले ही हो लेकिन उसका लक्ष्य केवल एक ही है कि धार्मिक भावनाआें को कभी भी आपसी मतभेद का आधार न बनने दिया जाए। 

धर्म और शिक्षा
धर्म का काम है लोगों को जोड़कर रखना और शिक्षा का उद्देश्य है कि बिना धार्मिक भेदभाव किए व्यक्ति का बौद्धिक विकास कैसे हो, इसकी रूप-रेखा बनाकर व्यक्ति को इतना सक्षम कर देना कि वह अपनी रोजी-रोटी कमा सके और स्वतंत्र होकर जीवन-यापन कर सकने योग्य हो जाए। किसी भी शिक्षण संस्थान द्वारा धार्मिक प्रतीक चिन्हों का इस्तेमाल उचित तो नहीं है लेकिन यह किया जाता है। हो सकता है कि अपनी अलग पहचान बनाए रखने के लिए ऐसा किया जाता हो लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वहां पढऩे वालों के लिए यह जरूरी कर दिया जाए कि वे उस धर्म के अनुयायी भी बन जाएं। 

शिक्षा का आधार किसी धर्म की मान्यताआें के अनुसार शिक्षा नहीं बल्कि आधुनिक और वैज्ञानिक सोच का विकास होना चाहिए। यही कारण है कि शिक्षण संस्थानों से यह उम्मीद की जाती है कि वे उनमें पढऩे वाले विद्याॢथयों को धर्म का महत्व तो बताएं लेकिन किसी एक धर्म को बेहतर और दूसरों को कमतर न दिखाएं। इसके साथ एक ही धर्म क्यों, देश में प्रचलित सभी धर्मों के बारे में इस प्रकार बताया जाए कि उनमें आपस में तुलना, प्रतिस्पर्धा और प्रतियोगिता की भावना विद्याॢथयों में न पनपे। अब हम इस बात पर आते हैं कि क्या धर्म के आधार पर विद्यार्थियों का पहनावा अर्थात उनकी ड्रैस को तय किया जा सकता है? इस बारे में अनेक मत हो सकते हैं लेकिन व्यावहारिकता यही है कि इसमें धर्म, उसके प्रतीक चिन्ह और धार्मिक आधार पर तय किए गए लिबास का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। 

एक-दूसरा मत यह है कि जब विभिन्न धर्मों के विद्यार्थी अपनी धार्मिक पहचान दर्शाने वाले वस्त्र पहनकर स्कूलों में जाएंगे तो उनमें बचपन से ही एक-दूसरे के धर्म को समझने और उसका आदर करने की भावना विकसित होगी। वे बड़े होकर अपने धर्म का पालन करते हुए अन्य धर्मों के मानने वालों का सम्मान करेंगे और इस तरह धार्मिक एकता की नींव पडऩा आसान होगा। एक तीसरा मत यह भी है कि जिस प्रकार फ्रांस ने अपने यहां शिक्षा को धार्मिक प्रतीकों और धार्मिक आचरण से अलग रखा है और किसी भी प्रकार का दखल न होने देने की व्यवस्था की है, उसी प्रकार हमारे देश में भी किया जा सकता है ! 

यह व्यवस्था हमारे यहां लागू होना संभव नहीं लगती क्योंकि सिख धर्म के विद्यार्थियों द्वारा अपने केश बांधने के लिए पगड़ी धारण करने की पर परा है और इसी आधार पर इस्लाम को मानने वाले मुस्लिम छात्राओं के लिए भी हिजाब और बुर्का पहनने की अपनी मांग को उचित बता रहे हैं। विवाद का हल चाहे जो हो लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि विद्यार्थियों की शिक्षा किसी भी कीमत पर नहीं रुकनी चाहिए। इसके लिए यदि उन्हें नियमों में कुछ ढील भी देनी पड़े तो यह ठीक होगा क्योंकि जिद्दी रुख अपनाने से अच्छा लचीला बर्ताव करना है।-पूर्ण चंद सरीन
भारतीय लोकतंत्र किसी की जागीर नहीं
Stories You May Like
हरिद्वार में बढ़ती महंगाई को लेकर कांग्रेस का अनोखा प्रदर्शन, गैस सिंलडर को फूल- माला पहनाकर उतारी आरती
PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

PunjabKesari TV

मेष राशि वालों आज कार्यक्षेत्र में अधिक परिश्रम करना पड़ सकता है। बेरोजगारों को रोजगार के नए अवसर……Read more
वृष राशि वालों आज कपड़ों के क्षेत्र से जुड़े लोगों को मुनाफा हो सकता है। मशीनरी संबंधी व्यवसाय में……Read more
मिथुन राशि वालों प्रॉपर्टी संबंधी कार्य में कोई नुकसान होने की संभावना है। पैसों के मामले में किसी……Read more
कर्क राशि वालों पार्टनरशिप संबंधी किसी भी कार्य में लापरवाही न बरते। ऑफिस का माहौल खुशहाल रहेगा।……Read more
सिंह राशि वालों कार्यक्षेत्र में काम की अधिकता रहेगी। बिजनेस में सहकर्मचारियों का हर काम में सहयोग……Read more
कन्या राशि वालों मार्केटिंग संबंधी बिजनेस में धन लाभ के योग बन रहे हैं। पारिवारिक माहौल सुखद व……Read more
तुला राशि वालों मानसिक रूप से आज सुकून महसूस करेंगे। बिजनेस में लापरवाही से काम न करें। नुकसान हो……Read more
वृश्चिक राशि वालों फाइनेंस संबंधित काम पर ज्यादा ध्यान दें। काम को लेकर किसी पर निर्भर न रहें।……Read more
धनु राशि वालों बिजनेस में कोई प्रोजेक्ट पूरा होने से भरपूर फायदा होगा। जीवनसाथी व परिवार वालों का……Read more
मकर राशि के जातकों को आज कार्यक्षेत्र में संयम से काम लेना होगा। जल्दबाजी में कोई फैसला न लें।……Read more
कुंभ राशि वालों आज का दिन अच्छा रहेगा। कारोबार को लेकर नई योजनाएं सफल होंगी। परिवार के प्रति जो……Read more
मीन राशि वालों आज कार्यक्षेत्र में धन लाभ के योग हैं। आर्थिक पक्ष पहले से मजबूत होगा। वैवाहिक जीवन……Read more
Main Menu
Keep yourself updated with National News. We are first to cover The National Latest News as they take place. All the upcoming National Politics NewsCrime News in Hindi is available exclusively on www.punjabkesari.in . We are committed to provide you all Latest,Breaking News of Nation.
पंजाब केसरी हिन्दी न्यूज की आधिकारिक वेबसाइट पर आपको न सिर्फ पल -पल की खबर मिलेगी बल्कि आप देख सकते हैं देश और दुनिया के वीडियो भी। क्योंकि हमारे पास है वीडियो और टैक्स्ट की खबरों के लिए एक हजार से ज्यादा रिपोर्ट्स का बड़ा नेटवर्क, जो आप तक सबसे पहले और तेजी से पहुंचा रहे हैं हर खबर। देश, दुनिया,खेल, व्यापार, बॉलीवुड और राजनीति से जुड़ी खबरों के अपडेट के लिए बने रहें पंजाब केसरी के साथ।
For Advertisement Query
Email ID
advt@punjabkesari.in
TOLL FREE
Jalandhar
Address : Civil Lines, Pucca Bagh Jalandhar Punjab
Ph. : 0181-5067200, 2280104-107
Email : support@punjabkesari.in
Copyright @ 2018 PUNJABKESARI.IN All Rights Reserved.
Subscribe Now!

source


Article Categories:
धर्म
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *